Corona Ek mahamari essay in Hind

Corona Ek mahamari Essay in Hindi

Corona Ek mahamari essay in Hindi:विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है। कोरोना वायरस बहुत सूक्ष्म लेकिन प्रभावी वायरस है।

Corona Ek mahamari essay in Hindi

कोरोना वायरस मानव के बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है, लेकिन कोरोना का संक्रमण दुनियाभर में तेजी से फ़ैल रहा है।

 कोरोना वायरस क्या है?

 कोरोना वायरस (सीओवी) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। डब्लूएचओ के मुताबिक बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है।

 इसके संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। यह वायरस दिसंबर में सबसे पहले चीन में पकड़ में आया था। इसके दूसरे देशों में पहुंच जाने की आशंका जताई जा रही है।

कोरोना से मिलते-जुलते वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं। कोरोना वायरस अब चीन में उतनी तीव्र गति से नहीं फ़ैल रहा है जितना दुनिया के अन्य देशों में फैल रहा है। कोविड 19 नाम का यह वायरस अब तक 70 से ज़्यादा देशों में फैल चुका है। कोरोना के संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके।

इस बीमारी की शुरुआत

कोरोना नामक इस महामारी का जन्म चीन मे हुआ था। ये वायरस दिसम्बर 2019 मे आया था। इस महामारी के लक्षण निमोनिया बीमारी के जैसे है।

जिस कारण इस महामारी को पहचान नहीं पाये। बाद मे वैज्ञानिको ने पता लगाया कि ये एक महामारी है। जो कि सीवियर एक्यूट रेस्परेटरी सिंड्रोम कोरोना वायरस 2 या सार्स कोरोना वायरस-2 के रूप उत्पन्न हुआ है।

वर्तमान आकड़ों के अनुसार 85 फीसदी लोग बिना वैक्सीन के ठीक हो रहे है। इस महामारी को हमे गंभीरता से लेना चाहिए। क्योकि ये जानलेवा बीमारी है। हम उम्मीद करते है। कि जल्द ही हम इस महामारी को परारस्त करें।

क्या है कोरोना वायरस के लक्षण ?

कोरोना वायरस के लक्षण शरुआत के कई दिनों तक दिखाई नहीं देंगे. पर जब मरीज के शरीर को वायरस शक्ति ग्रस्त कर देगा. तब इसके लक्षण देखेंगे.

खांसी का निरंतर आना- इस वायरस का प्रमुख लक्षण खासी का निरंतर आना इस वायरस के संक्रमित व्यक्ति को लगातर खांसी लगातार कई घंटो तक खांसी आती है. जिस पर नियंत्रित भी नहीं किया जा सकता है.

तेज बुखार आना- इस वायरस का एक लक्षण ये भी है. कि इसमे तापमान बढ़ जाता है. जिस कारण व्यक्ति के शरीर का तापमान बहुत अधिक बढ़ जाता है. और बुखार की समस्या उत्पन होती है.

गंध तथा दुर्गन्ध का महसूस न होना- इस वायरस से व्यक्ति को गंध तथा दुर्गन्ध का अनुभव नहीं होता है. तथा वह स्वाद को भी महसूस नहीं कर पाता है.

जरुरी नहीं है.कि ये सभी लक्षण प्रत्येक संक्रमित व्यक्ति में हो. कई बार एक भी लक्षण नहीं पाया जाता है. फिर भी लोग कोरोना के शिकार होते है.

इसे भी पढ़े:Essay On Cricket In Hindi

कैसे फैलता है कोरोना वायरस ?

कोरोना वायरस एक संक्रमित रोग है. ये एक  व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में फैलता है. इसी कारण ये सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित लोगो के संपर्क में आने से होता है.

कोरोना सक्रमित व्यक्ति के खांसने तथा छींकने  से पास में बैठे व्यक्ति के पास चला जाता है. और वह व्यक्ति अपना हाथ जब भी मुंह पर या नाक पर लगाएगा. जैसे ही ये श्वसन प्रक्रिया के द्वारा शरीर में प्रवेश कर लेता है.

संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने या एक ही बर्तन में खाना खाने से भी ये फैलता है. संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने पर वायरस हमारे हाथो में प्रवेश करते है.

पर हाथो में वायरस प्रवेश से हमें कोरोना नहीं होता है. जब हम उसी हाथो को अपने नाक पर लगाते है. तभी वे वायरस हमारे शरीर में प्रवेश करते है.

इसलिए हमारी सरकार ने ३ गज की दुरी बनाये रखने तथा मास्क पहनने के नियमो को जरुरी किया है. इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए हमें सतर्क रहना होगा.

और किसी भी व्यक्ति से हाथ नहीं मिलाना तथा हर समय नियमित रूप से मास्क और सेनेटाईजर का प्रयोग करना.ही कोरोना को रोक सकता है.

इसे भी पढ़े:Essay On Hindi Diwas

कोरोना से बचाव के उपाय

सरकार द्वारा बनाई गई दिशा निर्देशों का पालन करें।

समय-समय पर हाथ धोए।

दिन मे दो बार पानी उबालकर सेवन करें।

हर समय मास्क का प्रयोग करें।

2 गज की दूरी बनाए रखें।

जहां तक संभव हो घर से बाहर न जाए।

सेनेटाइजर का छिड़काव करें। तथा अपने हाथो पर लगाए।

बाजार जाने पर किसी वस्तु को स्पर्श न करें।

अपनी बारी आने पर वैक्सीन का लगवाए।

कोरोना संक्रमित व्यक्ति के पास न जाए।

आपकी नाक और मुंह अतिसंवेदनशील हैं

कोरोना की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना हमारे शरीर में प्रवेश नाक या मुंह द्वारा करता है. इसीलिए हमें मास्क पहनना जरुरी है. जिससे कोई वायरस अपने किसी अन्य शरीर के अंग पे लगे है.

तो भी हम सेनेटाईजर का प्रयोग कर संक्रमित होने से बच सकते है. ये वायरस मुंह तथा नाक से ही प्रवेश करता है. इसलिए हमें हमेशा अपनी सुरक्षा के लिए मास्क को पहनना चाहिए.

ये वायरस शरीर में प्रवेश करते ही शरीर के सभी अंगो को प्रभावित करता है. कुछ दिन तक ये वायरस शरीर में रहने पर शरीर का क्षय करना शुरू कर देते है. और मौत भी हो सकती है

इसे भी पढ़े:Essay On Air Pollution In Hindi

कोरोना वायरस की वजह से हमारे देश मे आर्थिक गतिविधियों का प्रभाव नजर आ रहा है। ये वायरस ज्यादा दिन तक शरीर मे जिंदा नहीं रह पता है।

Credit:SAZ education

उपसंहार

ये रोग सामने आने के बाद बाजार मे सबसे ज्यादा मास्क और सैनेटाइजर बिकने लगे है। इसे लोग बहुत-ही ज्यादा खरीद रहे है।झूठी अपवाओ से बचें। तथा अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करें। जैसा की अभिताब बच्चन ने कहा कि ”जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं” हमे इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए। ताकि हम इस महामारी को निपटा सकें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.