Essay On Cricket In Hindi

Essay On Cricket In Hindi

essay on cricket in hindi क्रिकेट राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई देशों द्वारा पर खेला जाने वाला एक पेशेवर स्तर का आउटडोर खेल है। इस बाहर खेले जाने वाले खेल में 11 खिलाड़ियों की दो टीमें होती है। क्रिकेट तब तक खेला जाता है जब तक 50 ओवर पूरे न हो जाए। इससे जुड़े नियम-कानून का संचालन तथा नियमन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद और मेर्लबोर्न क्रिकेट क्लब द्वारा किया जाता है। यह खेल टेस्ट मैचों और एक दिवसीय तथा टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के रुप

essay on cricket in hindi

प्रस्तावना

में खेला जाता है। सर्वप्रथम यह खेल 16वीं शताब्दी के दक्षिणी इंग्लैंड में खेला जाता था। हालाँकि 18वीं शताब्दी के दौरान इसका विकास इंग्लैंड के राष्ट्रीय खेल के रुप में हुआ।

क्रिकेट का इतिहास

ब्रिटिश साम्राज्य के विस्तार के दौरान ये खेल बाहर के देशों में खेला जाने लगा और 19वीं शताब्दी में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच आईसीसी द्वारा 10-10 सदस्यों के दो टीमों में कराया गया। क्रिकेट एक काफी प्रसिद्ध खेल है जो इंग्लैंड, भारत, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण-अफ्रिका आदि जैसे दुनिया के कई सारे देशों में खेला जाता है।

भारत में छोटे बच्चे इस खेल के दिवाने है और वह इसे छोटी सी खुली जगहों में खेलते है, खासतौर से सड़क और पार्क में। अगर इसे रोज खेला और अभ्यास किया जाये तो ये बहुत ही आसान खेल है।essay on cricket in Hindi क्रिकेट खिलाड़ियों को अपने खेल में सुधार लाने के लिये रोज अभ्यास की जरूरत पड़ती है जिससे वो छोटी-छोटी गलतियों को दूर कर सकें और पूरे प्रवाह के साथ इसे खेल सकें।

इसे भी पढ़े: Essay On Hindi Diwas

क्रिकेट का चित्रण

प्रारंभ में यह खेल ऊन के गोलो की गेंद बनाकर खेला जाता था। क्रिकेट को समतल और साफ भूमि के बड़े टुकड़ों पर खेला जाता था। आम तौर पर, आब इसे पिच नामक मैदान पर खेला जाता है। इस पिच में 22 गज के बीच स्टंप होते है, प्रत्येक तरफ 3 स्टंप होते हैं।

इन स्टंप के शीर्ष पर दो बेल (Bails) होते हैं और स्टंप के प्रत्येक सेट पर एक या दो अंपायर होते हैं। क्रिकेट को ग्यारह खिलाड़ियों की दो टीमों के बीच खेला जाता हैं। खेल शुरू करने से पहले दोनों टीमों के कप्तान टॉस के लिए अंपायर के पास जाते हैं।

टॉस जीतने वाले को पहले बल्लेबाजी करने का मौका मिलता है। छह खिलाड़ी आमतौर पर लंबे समय तक बल्लेबाज के दाईं ओर खड़े रहते हैं, जिनको कवर प्वाइंट, शॉर्ट स्लिप, लॉन्ग स्लिप, चौकोर मिड ऑन, लॉन्ग ऑन, और बैक मैन कहा जाता है।

विकेट के पीछे के खिलाड़ी को “विकेट कीपर” कहते है। एक गेंदबाज़ किसी दिव्य पुरुष से कम नही होता है, बल्लेबाजी करने वाला टीम का कप्तान अपने दो सलामी बल्लेबाज़ों को बल्लेबाजी के लिए भेजता है।

गेंदबाज़ गेंदबाज़ी करना शुरू करता है अगर उसकी बॉल बल्लेबाज को लगती है और विकेट हिट होता है या यदि बल्लेबाज गेंद को हिट करता है और गेंद को कोई खिलाड़ी पकड़ लेता है। अगर वह विकेट से पहले आवेग पूर्ण है या अगर वह क्रीज छोड़ता है या फिर फील्डर विकेट छोड़ता है तो उसे आउट माना जाता है। जिसके बाद अन्य

इसे भी पढ़े:Christmas Essay in Hindi

बल्लेबाज खेलने के लिए आता हैं।

लेकिन अगर बल्लेबाज गेंद को हिट करता है और विकेटों के बीच में दौड़ता है, तो वह अपने रनों की संख्या को बढ़ाता है। स्कोरर इन रनों को नोट करता है और स्कोर बोर्ड पर इन्हे दिखता है। मैच के अंत में जिस टीम के सबसे अधिक रन होते हैं, वही विजेता कहलाती है।

खेल की विधि

दोनों टीमें बारी-बारी से बैटिंग करती है हालाँकि कौन पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करेगा ये टॉस (सिक्के के उछाले जाने पर निर्भर करता है) निर्धारित करता है। विश्लेषकों के विचार से भारत में क्रिकेट दिन-प्रतिदिन एक मनोरंजक खेल बनाता जा रहा है।

जब कोई राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट खेल होने वाला होता है तो इसमें अत्यधिक रुचि लेने वाले लोग इसके शुरु होने के एक हफ्ते पहले से ही उत्साह से भर जाते है। बहुत सारे क्रिकेट प्रेमी इसको घर पर टीवी या न्यूज में देखने के बजाय इस खेल के ऑनलाइन टिकट की बुकिंग कराते है जिससे वो इसका स्टेडियम के अंदर से लुफ्त उठा सके। पूरी दुनिया में क्रिकेट खेलने वालों के देशों में हमारा देश सबसे प्रसिद्ध है।

इसे भी पढ़े:Bhagat Singh Essay in Hindi

क्रिकेट के नियम

क्रिकेट के खेल में ढेर सारे नियम है जिन्हें बिना जाने कोई भी इसे सही तरीके से नहीं खेल सकता है। ये ठीक तरह से तभी खेला जा सकता है जब मैदान सूखा हो जबकि मैदान गीला होने पर कुछ समस्या आ जाती है। एक बल्लेबाज तब तक खेलता है जब तक वो आउट नहीं होता। जब भी मैच शुरु होता है हर एक का उत्साह बढ़ जाता है और पूरे स्टेडियम में लोगों की तेज आवाज फैल जाती है, खासतौर से जब उनका कोई खास खिलाड़ी चौका या

छक्का मारता है

क्रिकेट खिलाड़ियों में सचिन मेरे पसंदीदा खिलाड़ी है और लगभग सभी लोग उन्हें काफी पसंद करते है। भारत के क्रिकेट इतिहास में उनके द्वारा कई नये रिकार्ड बनाये गये है। जिस दिन सचिन किसी राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय मैच में खेल रहे होते है, उस दिन मैं क्रिकेट देखने के उत्साह में अपना भोजन करना तक भूल जाता हूँ।

क्रिकेट खेल के खिलाड़ी

क्रिकेट खेल के खिलाडियों के दो टीमें होती हैं। खेल को खिलाने के लिए दो निर्णायक होते हैं, जिन्हें अम्पायर कहते हैं। इसी तरह प्रत्येक दल का एक-एक मुखिया स्किपर (कप्तान) होता है जिसके नेतृत्व में उसकी टीम खेल खेलती है। हर दल में ग्यारह-ग्यारह खिलाड़ी होते हैं। हर दल में एक अथवा दो अतिरिक्त खिलाड़ी भी रखे जाते हैं। क्रिकेट का खेल एक लम्बी अवधि तक खेला जाता है। टेस्ट मैच प्रायः 5 दिन का होता है। अन्य साधारण मैच तीन-चार दिन के होते हैं। कभी-कभी एक दिन का मैच भी खेला जाता है।

क्रिकेट का लोगों पर प्रभाव

युवा लड़के इस खेल से बहुत प्रभावित रहते है और लगभग हर कोई एक अच्छा क्रिकेटर बनना चाहता है। क्रिकेट भले ही भारत का खेल न रहा हो लेकिन फिर भी इसे आज हमारे देश में पूरी खुशी और उत्साह से खेला जाता है। क्रिकेट कई सारे देशों में खेला जाता है जैसे भारत, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रिका, ऑस्ट्रेलिया, जिम्बॉबवे, इंग्लैंड, ऑयरलैंड, श्रीलंका, न्यूजीलैंड आदि। टेस्ट मैच पाँच दिनों का होता है जिसमें 11-11 खिलाड़ीयों की दो टीमें होती है, इसमें हर टीम को दो पारी खेलने का मौका मिलता है जो टीम सबसे अधिक रन बनाती है वही विजेता बनती है।

credit:Learn with Nayna teacher

उपसंहार

क्रिकेट के खेल में ढेर सारे नियम है जिन्हें बिना जाने कोई भी इसे सही तरीके से नहीं खेल सकता है। ये ठीक तरह से तभी खेला जा सकता है जब मैदान सूखा हो यदि मैदान गीला होगा तो खेल खलने में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो जायेंगी। क्रिकेट के खेल में एक बल्लेबाज तब तक खेलता है जब तक वो आउट नहीं हो जाता है। जब भी मैच शुरु होता है। तो इसे देखने वाले हर एक व्यक्ति का उत्साह बढ़ जाता है और पूरे स्टेडियम में लोगों की तेज गूजने लग जाती है, खासतौर से जब उनका कोई खास खिलाड़ी चौका या छक्का मारता है।

क्रिकेट के खेल में सचिन ज्यादेतर लोगों के पसंदीदा खिलाड़ी है और उन्हें क्रिकेट के भगवान के नाम से भी जाना जाता है। भारत के क्रिकेट इतिहास में उन्होंने कई महत्वपूर्ण रिकार्ड बनाये है। यहीं कारण है कि जिस दिन सचिन किसी राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय मैच में खेल रहे होते है, उस दिन लोग अपने कई महत्वपूर्ण कार्यों को रोककर क्रिकेट देखते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.