Essay On Summer Season In Hindi

Essay On Summer Season In Hindi

Essay On Summer Season In Hindi:ग्रीष्म ऋतु साल का सबसे गर्म मौसम होता है, जिसमें दिन के समय बाहर जाना काफी मुश्किल होता है। इस दौरान लोग आमतौर पर  बाजार देर शाम या रात में जाते हैं। बहुत से लोग गर्मियों में सुबह में टहलना पसंद करते हैं। इस मौसम में धूल से भरी हुई, शुष्क और गर्म हवा पूरे दिन भर चलती रहती है।

Essay On Summer Season In Hindi

कभी-कभी लोग अधिक गरमी के कारण हीट-स्ट्रोक, डीहाइड्रेशन (पानी की कमी), डायरिया, हैजा, और अन्य स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से भी प्रभावित हो जाते हैं।

प्रस्तावना

गर्मी के मौसम में बचाव के उपाय

गर्मी के मौसम के दौरान हमें आरामदायक सूती कपड़े पहनने चाहिए।

हमें गर्मी की ऊष्मा से बचने के लिए ठंडे पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

हमें पूरे मौसम में स्वस्थ और तंदुरुस्त रहने के लिए बहुत सी सावधानियाँ रखनी चाहिए।

हमें गर्मियों की छुट्टियों के दौरान गर्मियों का सामना करने के लिए पहाड़ी क्षेत्रों में जाना चाहिए।

हमें शरीर में पानी की कमी और लू लगने (हीट स्ट्रोक) से बचने के लिए बहुत सारा पानी पीना चाहिए।

हमें दिन के दौरान, हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाव के लिए विशेष रुप से, सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक बाहर नहीं जाना चाहिए।

हमें गरमी में पक्षियों को बचाने के लिए अपनी बॉलकनी या गलियारे) में थोड़ा सा पानी और कुछ चावल या अनाज के दाने रख देने चाहिए।

हमें लोगों से विशेष रुप से, वस्तु विक्रेता, डाकिया, आदि से पानी के लिए अवश्य पूछना चाहिए।

हमें गर्मियों के मौसम में ठंडक प्रदान करने वाले संसाधनों का प्रयोग करना चाहिए हालांकि, ग्लोबल वार्मिंग के बुरे प्रभावों को रोकने के लिए बिजली का प्रयोग कम करना चाहिए।

हमें बिजली और पानी बर्बाद नहीं करना चाहिए।

हमें अपने आस-पास के क्षेत्रों में अधिक पेड़-पौधे लगाने चाहिए और गर्मी को कम करने के लिए उन्हें नियमित रुप से पानी देना चाहिए।

इसे भी पढ़े:Essay On Hindi Diwas

गर्मी की छुट्टियां

शहरी क्षेत्रों में रहने वाले बहुत से लोग बहुत अधिक गर्मी को नहीं सहन कर पाते हैं, जिसके कारण वे गर्मी की छुट्टियों में अपने बच्चों के साथ समुद्र तटीय स्थानों, पहाड़ी क्षेत्रों, ठंडे स्थानों पर कैम्पों या पिकनिक के लिए जाते हैं। इस दौरान वे तैराकी, गर्मी के मौसमी फलों को खाने और ठंडे पेय पदार्थों का आनंद लेते हैं। कुछ लोगों के लिए, गर्मियों का मौसम अच्छा होता है, क्योंकि वे उन दिनों में ठंडे स्थानों पर मनोरंजन और मस्ती करते हैं, हालांकि यह मौसम गरमी से राहत पाने वाले संसाधनों की कमी के कारण, ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए असहनीय होता है। कुछ स्थानों पर, लोग अपने क्षेत्रों में पानी की बहुत अधिक किल्लत या कमी से पीड़ित होते हैं और उन्हें बहुत अधिक दूरी तक पानी को लेकर जाना पड़ता है।

यह पूरा मौसम बच्चों के लिए बहुत अच्छा होता है, क्योंकि उन्हें गर्मियों की छुट्टियों के रुप में अपने घर में परिवार के साथ

मस्ती के लिए, किसी ठंडे स्थान पर घूमने के लिए, तैराकी का आनंद लेने के लिए, मौसमी फलों के साथ आइस-क्रीम का आनंद लेने के लिए एक महीने 15 दिन (डेढ़ महीने) का समय मिलता है। आमतौर पर, लोग सूरज निकलने से पहले टहलने के लिए जाते हैं, क्योंकि इस दौरान उन्हें ठंडक, शान्ति और ताजी हवा का आनंद लेने का अवसर मिलता है।

ग्रीष्म ऋतु की विशेषताएं

हर ऋतु की अपनी-अपनी अलग विशेषताएं होती हैं। ग्रीष्म ऋतु अपनी गर्मी से भले ही हमें परेशान करता हो लेकिन यह हमारे पर्यावरण के लिए के लिए जरुरी है। फलों का राजा आम हमें इसी मौसम में खाने को मिलता है इसके अलावा लीची, तरबूज, ककड़ी, खरबूज जैसे स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट फल भी हमें इसी मौसम में मिलते हैं। गर्मी के आने से जमीन में रहने वाले जहरीले कीटाणु भी मर जाते हैं। कहा जाता है की जिस वर्ष तेज गर्मी पड़ती है उस साल बारिश भी अच्छी होती है।

ग्रीष्म ऋतु के लाभ और हानि

गर्मी के मौसम में हम सबका प्यारा फल हमें खाने को मिलता है। आम कच्चा हो या पका हुआ हमें बहुत ही स्वादिष्ट लगता है। इसी मौसम में स्वादिष्ट लीची भी खाने को मिलती है। तरबूज-खरबूज, खीरा-ककड़ी जैसे ठंडे फल तो इस मौसम के लिए वरदान हैं, इन्हें खाकर हमारे शरीर को ठंडक मिलती है। गर्मी के दिनों में गन्ने का रस, जूस, लस्सी, शिकंजी, नारियल पानी आदि बड़ी आसानी से मिल जाते हैं। गर्मी के दिनों में आइसक्रीम, बर्फ के गोले, कुल्फी आदि खाना कौन पसंद नही करता। अगर ग्रीष्म ऋतु नही हो तो इन सबका आनंद हम नही उठा पायेंगे इसलिए ग्रीष्म ऋतु का अपना खास महत्व है।

अगर हम ग्रीष्म ऋतु से हानि की बात करें तो इस मौसम में तेज गर्मी और धुप पड़ती है और यही इस मौसम की सबसे बड़ी हानि है। चिलचिलाती धुप और तेज गर्मी की वजह से हमारे शरीर से पसीना बहता है। नदी, तालाब, झरने, कुएं और पानी के अन्य स्त्रोत गरमी की वजह से सूख जाते हैं। हम मनुष्यों के अलावा अन्य जीव-जंतु और पेड़ पौधे भी इस गर्मी से परेशान हो जाते हैं। तेज धुप में लू की हवाएं चलती हैं जिससे घर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है।

इसे भी पढ़े:Essay On Cricket In Hindi

गर्मी से बचने के उपाय:

गर्मी से बचने के लिए हलके और पतले कपडे पहने।

गहरे रंग के कपड़े न पहने।

आम, तरबूज जैसे ठन्डे फलों का सेवन करें।

तेज धुप में बाहर न निकलें।

गर्म हवाओं से बचें।

जूस, लस्सी, गन्ने का रस, नारियल पानी आदि पियें।

हानिकारक कोल्ड्रिंक और पेय पदार्थों से बचें।

गर्मी के मौसम के लाभ:

गर्मी में हमें कई सारे फल जैसे: आम, लीची, तरबूज, खरबूज आदि खाने को मिलते हैं।

गर्मी के मौसम में हम गन्ने का रस, फलों का जूस, नारियल पानी आदि पीने को बड़ी आसानी से मिल जाता है।

आइसक्रीम, कुल्फी, बर्फ के गोले भी इसी मौसम में मिलते हैं।

गर्मी से अनेक प्रकार के विषैले कीट और विषाणु मर जाते हैं।

गर्मी के दिनों में बच्चों को ग्रीष्मकालीन अवकाश मिलता है।

गर्मी की छुट्टी मिलने पर लोग ठन्डे स्थानों पर घूमने जाते हैं।

गर्मी के मौसम से हानि:

तेज गर्मी की वजह से तालाब, नदी, झरने, कुएं आदि सूख जाते हैं।

तेज धूप की वजह से घरो से बाहर जाना मुश्किल हो जाता है।

गर्म हवाओं से लू लगने का खतरा रहता है।

हमारे शरीर से गर्मी की वजह से पसीना निकलने लगता है।

शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे बार-बार प्यास लगता है।

पशु-पक्षी भी तेज गर्मी से परेशान हो जाते हैं।

ग्रीष्म ऋतु पर 10 लाइन 10 Line on Summer season in hindi

ग्रीष्म ऋतु साल का सबसे गर्म मौसम है यह 15 अप्रैल से शुरू होकर 15 जुलाई तक रहती है।

ग्रीष्म ऋतु के दौरान दिन बड़े और रात छोटे होते हैं।

ग्रीष्म ऋतु में चलने वाली हवा को लू कहते हैं।

ग्रीष्म ऋतु वर्ष का सबसे गर्म मौसम होता है हालांकि यह बच्चों के लिए बहुत ही रूचि पूर्ण होता है ।क्योंकि, उन्हें अपने मामा घर जाने  को मिलता है, दोस्तों के साथ खेलने को मिलता है, आइसक्रीम खाने, लस्सी पीने, गन्ने पीने, पसंदीदा फल खाने का मौका मिलता है।

ग्रीष्म ऋतु में गर्मी की वजह से नदियों, तालाबों, झीलों का पानी सुख कर कम होने लगता है।

ग्रीष्म ऋतु में गर्मी की वजह से लोग हल्के रंग के कपड़े पहनना पसंद करते हैं।

ग्रीष्म ऋतु में आम, खरबूजा, खीरा, ककड़ी, तरबूज, आदि खाने को मिलता है।

ग्रीष्म ऋतु में गर्मी की वजह से खेतों की जमीन कठोर हो जाती है जिससे खेती कर पाना बहुत ही मुश्किल होता है।

सभी लोग गर्मी से बचने के लिए अपने घरों में कूलर, पंखा, एयर कंडीशनर लगाते हैं।

ग्रीष्म ऋतु में दोपहर को गर्मी अधिक होने की वजह से लोग घर से निकलना बंद कर देते हैं।

इसे भी पढ़े:Essay On Terrorism In Hindi

credit:Study Pride Corner

उपसंहार

ग्रीष्म ऋतु का मौसम सबसे गर्म होता है। हमें अपने स्वास्थ्य के बारे में ध्यान रखते हुए ग्रीष्म ऋतु में जितना कम हो सके खाना खाना चाहिए और थोड़े हल्के फुल्के खाना खाना चाहिए। ग्रीष्म ऋतु में हमें अपने घरों पर ही रहना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.