my village essay in hindi

My Village Essay In Hindi

My Village Essay In Hindi:गाँव के बिना हमारा देश कुछ भी नहीं है। हमारे देश में आधे से ज़्यादा लोग गाँव में रहते है। हमारे देश की उन्नति के पीछे गाँव महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किसान गाँव में रहकर फसलों का उत्पादन करते है।

My Village Essay In Hindi

फसलों का उत्पादन करके उसे शहरों की सब्ज़ी मंडी में भेजा जाता है। वहीं से हमे अनाज, फल और सब्ज़ी प्राप्त होते है। अगर गाँव नहीं होते तो फसलों का उत्पादन नहीं हो पाता। गाँव की प्राकृतिक सुंदरता सभी के मन को मोह लेती है।

प्रस्तावना

वायु प्रदूषण से दूर और हरियाली के बीच गाँव का सौंदर्य देखते ही बनता है। मेरा गाँव भी कुछ ऐसा ही है। मेरा गाँव गंगा नदी से थोड़ी दूर है। मैं कोलकाता शहर में रहता हूँ और जैसे ही गर्मियों की छुट्टी मिलती है, मैं अपने दादाजी को मिलने अपने परिवार के साथ गाँव जाता हूँ। मुझे गाँव के खेत खलियान, तालाब के पास बैठना बहुत अच्छा लगता है।

आजकल लोग शहरों की व्यस्तता और भीड़ भाड़ से परेशान होकर गाँव में आकर कुछ दिन बिताना चाहते है। गाँव की ताज़ी हवा और शान्ति सभी के मन को शान्ति और सुख प्रदान करती है।

रात की शांत और ताज़ी ठंडी हवा मन और मस्तिष्क को शांत कर देती है। शहरों की भाग दौड़ से दूर गाँव एक बेहतरीन स्थान है। यहाँ की प्राकृतिक सौंदर्य को अनुभव करके हमारे अंदर बसी सारी तकलीफे दूर हो जाती है।

इसे भी पढ़े :Sardar Vallabhbhai Patel Essay In Hindi

किसानो का निवास

मेरे दादाजी के भी खेत है। वह खेतो में उगाई गयी सब्ज़ी और फल खाते है। मेरे गाँव में अधिकतर किसान और उनके परिवार रहते है। हालांकि गाँव में लघु और कुटीर उद्योग में काम करने वाले लोग भी रहते है। किसान कृषि और पशु पालन करके अपना दैनिक जीवन का गुजारा करते है। गाय, भैंस और मुर्गी, मछली पालन करके अपनी आजीविका चलाते है।

कृषि प्रधान देश

मेरे गाँव में कृषि करके मुख्यत लोग अपना गुजारा करते है। हमारे देश के कृषक बड़े परिश्रमी होते है। भारत की उपजाऊ भूमि में वह खेती बाड़ी करते है। किसानो की वजह से हम भूखे पेट नहीं सोते है।

आजकल विज्ञान ने कृषि क्षेत्र में काफी योगदान दिया है। इससे किसानो को बड़ा लाभ पहुंचा है। मेरे गाँव में किसान सिंचाई के नए पद्धतियों को अपना रहे है। भारत सही माईनो में एक कृषि प्रधान देश है। यह गाँव और किसानो की मेहनत से संभव हो पाया है।

गाँव के लोगो का साफ़ मन

गाँव के लोग अतिथियों की मन से सेवा करते है। उनका मन स्वच्छ होता है। वह स्वभाव से मददगार होते है। वह लोगो पर जल्द भरोसा कर लेते है। इसलिए कभी – कभी बुरे लोग और साहूकार उन्हें ठग लेते है और पैसो के मामले में उनका शोषण करते है।

शहरों में रहने वाले अधिकतर लोग स्वार्थी होते है, मगर गाँव में रहने वाले लोग हमेशा दूसरो की मदद करते है। अब मेरे गाँव के लोग शिक्षित हो रहे है और पहले से अधिक जागरूक हो गए है। गाँव के लोग देशी पोशाक पहनते है। उनका रहन- सहन भारतीय संस्कृति और परम्पराओ को दर्शाता है।

इसे भी पढ़े :Essay On Terrorism In Hindi

गाँव का दैनिक जीवन

मेरे गाँव और लगभग हर गाँव में लोग प्रातकाल उठते है। गाँव के सभी लोग सुबह ही अपने काम पर निकल जाते है। गाय और भैंस को चारा खिलाना और खेतो पर जाकर काम करना शुरू कर देते है। उनका जीवन सादगी भरा होता है। वह बेहद सीधे – साधे होते है।

आधुनिक जीवन से दूर

मेरे गाँव के लोग प्राकृतिक सामग्रियों पर ज़्यादा निर्भर करते है। गाँव के लोग आधुनिक जीवन के बनावटीपन से कोसो दूर रहते है। वह कृषि पर निर्भर रहते है। कुछ महीने लोग कुटीर और लघु उद्योगों में काम करके अपना जीवन यापन करते है।

गाँव के लोग शहरी लोगो की तरह जल्दी बीमार नहीं पड़ते है। उन्हें कठोर काम और परिश्रम करने की आदत होती है। गाँव के लोग अपना काम खुद करते है। मेरे गाँव के लोग ताज़े फल, सब्ज़ियां और शुद्ध दूध पीते है। वह सेहतमंद रहते है। गाँव में प्रदूषण नहीं होता है, इसलिए जाहिर सी बात है प्रदूषण मुक्त जीवन में लोग बीमार नहीं पड़ते है।

इसे भी पढ़े :Essay On Hindi Diwas

ज़्यादा सुविधाएं ना मिलना

शहरों की तुलना में गाँव में सुविधाएं कम होती है। यहाँ नौकरियों के इतने अवसर नहीं मिलते है। कई प्रकार की सुविधाएं मेरे गाँव में नहीं है। मेरे गाँव के लोग फिर भी सुखी और संतुष्ट भरा जीवन जीते है।

कुछ लोग आजकल शहरी चमक दमक से प्रभावित होकर शहरों की तरफ पलायन करते है। सरकार को किसानो को अतिरिक्त सुविधा देनी चाहिए, ताकि कृषि पर से उनका भरोसा  ना जाए। दुर्भाग्यवश जिस प्रकार शहरों की उन्नति हुयी उतनी मेरे गाँव या किसी अन्य गाँव की नहीं हो पायी है। देश तभी उन्नति करेगा जब गाँव का विकास होगा।

credit:247 Education

उपसंहार

पुराने समय में लोग गांव में रहते थे क्यूंकि तब बड़े बड़े शहर नहीं थे। तो जंगली या पहाड़ी क्षेत्रों में लकड़ी से घर बना कर रहते थे, धीरे धीरे वहा और लोग रहने लगे तो आबादी बढ़ने लगी और उसे गांव ऐसा कहने लगे। परंपरागत तरीकों से आज भी भारत में गांव उपस्थित है जो कि प्राकृतिक चीजों से संपन्न है। गांव में लोग खेती करना ज्यादा पसंद करते है क्यूंकि खेती उनकी शान है इसीलिए अब सब यही पूछते है कि तुम्हारे पास खेती कितनी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.