Student Life Essay In Hindi

Student Life Essay In Hindi-छात्र जीवन निबंध हिंदी में

Student Life Essay In Hindi:एक आदर्श छात्र वह है जिसे हर दूसरा छात्र देखता है। कक्षा में या खेल के मैदान में अपने सभी कार्यों को पूरा करने के लिए उनकी सराहना की जाती है। वह अपने शिक्षकों का पसंदीदा होता है और स्कूल में विभिन्न कर्तव्यों का कार्यभार उसे सौंपा जाता है।

Student Life Essay In Hindi

हर शिक्षक चाहता है कि उनकी कक्षा ऐसे छात्रों से भरी रहे।

प्रस्तावना

छात्र को निखारने में माता-पिता और शिक्षक की भूमिका

हर माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे अपनी कक्षा में हर काम में प्रथम रहें, दूसरों के लिए एक आदर्श उदाहरण बने। कई छात्र अपने माता-पिता की अपेक्षाओं को पूरा करना चाहते हैं लेकिन एक आदर्श छात्र बनने के लिए उनमें दृढ़ संकल्प और कई अन्य कारकों की कमी होती है। कुछ लोग प्रयास करते हैं और असफल होते हैं पर कुछ लोग प्रयास करने में ही असफ़ल हो जाते हैं लेकिन क्या अकेले छात्रों को इस विफलता के लिए दोषी ठहराया जाना चाहिए? नहीं! माता-पिता को यह समझना चाहिए कि वे अपने बच्चे के समग्र व्यक्तित्व को बदलने और जीवन के प्रति सकारात्मक रवैया बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। यह उनका कर्तव्य है कि वह अपने बच्चों को स्कूल में अच्छा करने के महत्व को समझने में उनकी सहायता करें।

कई माता-पिता अपने बच्चों को बड़े सपने दिखाते हैं और उन्हें बताते हैं कि कैसे स्कूल के दिनों में अच्छे ग्रेड लाए जाते हैं और उसके लिए कड़ी मेहनत की जाती है जो उन्हें उनकी पेशेवर और व्यक्तिगत जिंदगी में बाद में मदद करती है। हालांकि उनमें से अधिकतर अपने बच्चों को यह नहीं सिखाते हैं कि निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कैसे कड़ी मेहनत करें और प्रेरित रहें। माता-पिता को बच्चों के साथ मिलकर काम करना चाहिए ताकि वे स्कूल में अच्छा कर सकें।

शिक्षक अपने छात्रों के व्यक्तित्व को समान रूप से सुधारने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्हें सकारात्मक रूप से प्रभावित करने और हर कदम पर उन्हें प्रोत्साहित करने के तरीके ढूंढने की आवश्यकता है।

 विद्यार्थी का जीवन

आदर्श विद्यार्थी का जीवन बेहद सरल होता है। उनके जीवन में सदाचार का बड़ा महत्व होता है। सादा जीवन और उच्च विचार उनके जीवन का आदर्श वाक्य है। वह हमेशा अपने सही आदर्शों और उद्देश्यों पर टिका रहता है। वो सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर होता है। अपने दैनिक जीवन के कार्यों में अनुशासित रहता है। वह कभी फैशन के पीछे नहीं भागता। उनके पास एक मजबूत नैतिक चरित्र होता है।

विनम्रता,सहनशीलता, धैर्यता और आत्मसंयम उनके जीवन की संपत्ति है। जीवन की किसी भी विकट परिस्थिति में वो कभी भी हिम्मत नहीं हारता। वह अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को निभाने में हरदम तैयार रहता है। आदर्श विद्यार्थी शारीरिक रूप के साथ साथ  मानसिक रूप से भी से फिट और सक्रिय रहता है। आदर्श विद्यार्थी  बड़े होकर व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन दोनों को कुशलता से प्रबंधित कर सकते हैं।

वह अपने व्यक्तित्व के विकास में रुचि रखता है। आदर्श विद्यार्थी उच्चतम चरित्र का और आशावादी होता है। वह सबके लिए एक प्रेरणास्रोत होता है।

इसे भी पढ़े:Sardar Vallabhbhai Patel Essay In Hindi

छात्र की विशेषताएं

यहां एक आदर्श छात्र की मुख्य विशेषताएं बताई गई हैं:

मेहनती

एक आदर्श छात्र लक्ष्य निर्धारित करता है और उन्हें प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करता है। वह अध्ययन, खेल और अन्य गतिविधियों में सर्वश्रेष्ठ करना चाहता है और ऐसा करने के लिए अपने सर्वोत्तम प्रयास में शामिल होने से संकोच नहीं करता।

लक्ष्य निर्धारण करना

एक आदर्श छात्र कभी भी मुश्किल होने पर हार नहीं मानता। वह निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निर्धारित रहता है और सफ़लता प्राप्त करने के लिए लगातार कार्य करता है।

समस्या निवारक

कई छात्र विद्यालय / कोचिंग सेंटर तक देर से पहुंचने, अपने होमवर्क को पूरा नहीं करने, परीक्षा में अच्छी तरह से प्रदर्शन नहीं करने आदि के लिए बहाने देते हैं। हालांकि एक आदर्श छात्र वह है जो बहाने मारने की बजाए ऐसी समस्याओं का हल ढूंढता है।

इसे भी पढ़े:Make In India Essay In Hindi

भरोसेमंद

आदर्श छात्र भरोसेमंद होता है। शिक्षक अक्सर उन्हें अलग-अलग कर्तव्यों का आवंटन करते हैं जो वे बिना असफल हुए पूरा करते हैं।

सकारात्मक

एक आदर्श छात्र हमेशा सकारात्मक दृष्टिकोण रखता है। यदि पाठ्यक्रम बड़ा है, यदि शिक्षक अध्ययन करने के लिए समय दिए बिना परीक्षा लेता है, यदि कुछ प्रतियोगी गतिविधियां अचानक रखी जाती हैं तो भी आदर्श छात्र घबराता नहीं है। आदर्श विद्यार्थी हर स्थिति में सकारात्मक बना रहता है और मुस्कुराहट के साथ चुनौती स्वीकार करता है।

जानने के लिए उत्सुक

एक आदर्श छात्र नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहता है। वह कक्षा में सवाल पूछने में संकोच नहीं करता। एक आदर्श छात्र भी पुस्तकों को पढ़ने और इंटरनेट पर सर्फ करने के अपने तरीके से अलग-अलग चीज़ों के बारे में अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए तत्पर रहता है।

विद्यार्थी के गुण

आदर्श विद्यार्थी समय का पाबंद होता है। वह सब कुछ समय पर करता है। वो महत्वाकांक्षी होता है। उसके जीवन में एक निश्चित लक्ष्य होता है और उसे प्राप्त करने के लिए वह कड़ी मेहनत करता है।आदर्श विद्यार्थी सिर्फ किताबी कीड़ा नहीं होता। वो रचनात्मक होता है। एक आदर्श छात्र अंधविश्वास में विश्वास नहीं करता है। वह अपने निर्णय और विश्वास में हमेशा वैज्ञानिक, तर्कसंगत और तार्किक होता है।आदर्श विद्यार्थी मृत रीति-रिवाजों और परंपराओं का नेतृत्व नहीं करता है।

वह हर काम को हमेशा भक्ति और मेहनत से करता है। आदर्श विद्यार्थी हमेशा एक अनुशासित जीवन जीता है। वह हमेशा जीवन के सभी क्षेत्रों में खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करता है। वो सभी के साथ सहानुभूति से पेश आता है। वह हर किसी से प्यार करता है और गरीबों और जरूरतमंदों की मदद भी करता है। वह हमेशा अपने शिक्षकों, माता-पिता और बड़ों के प्रति आज्ञाकारी रहता है।

वह हमेशा सच बोलता है और कभी झूठ नहीं बोलता। वह कभी भी धूम्रपान, शराब, जुआ आदि बुरी आदतों में शामिल नहीं होता है। आदर्श  विद्यार्थी बुरी संगति से दूर रहता है और अच्छी संगति रखता है। वह व्यर्थ के कार्यों में अपना समय बर्बाद नहीं करता है।

इसे भी पढ़े:Mere Jeevan Ka Lakshya Essay In Hindi

विद्यार्थी और राष्ट्र

आदर्श विद्यार्थी देश की मजबूत रीढ़ होते है। एक आदर्श छात्र अपने देश की आशा, गौरव और समृद्धि की चिंगारी है। भविष्य में वे नेता बन जाते हैं क्योंकि एक आदर्श छात्र एक सच्चा देशभक्त भी होता है। एक आदर्श विद्यार्थी भी एक अच्छा नागरिक

बनता है। हम सभी जानते हैं कि एक अच्छा नागरिक हमारे समाज के लिए, देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण साबित होता है। देश का भविष्य छात्रों पर ही निर्भर है।

हमारा देश संघर्ष के कठिन दौर से गुजर रहा है, इसलिए इसे आदर्श छात्रों और नागरिकों की सख्त जरूरत है। राष्ट्र गौरव के शिखर पर पहुंच सकता है यदि हमारे छात्र आदर्श बनें और राष्ट्रीय पुनर्निर्माण के कार्य में भाग लें।

credit:Hindi the easy way

उपसंहार :

विद्यालय में विद्यार्थी तो बहुत होते हैं, लेकिन आदर्श विद्यार्थी बहुत कम होते हैं। देखा जाये तो आदर्श विद्यार्थी बनना बड़ी तपस्या का काम है, जीवन को अनुशासन और आदर्शों पर जीना पड़ता है। अगर माता पिता और गुरु चाहे तो देश का हर बच्चा आदर्श विद्यार्थी बन सकता है। उसके लिए बच्चों को हमें उचित वातावरण देना होगा। बचपन से ही बच्चों को आदर्श विद्यार्थी के गुण सिखाने होंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published.